Breaking News

अक्सर सुबह बॉथरूम में ही क्यों आता है हार्ट अटैक, जानिए कैसे करें इस परेशानी से बचाव

अक्सर सुबह बॉथरूम में ही क्यों आता है हार्ट अटैक, जानिए कैसे करें इस परेशानी से बचाव

दिल का धड़कना हमारे ज़िंदा रहने का सबूत है। दिल जिस दिन धड़कना बंद कर देता है उस दिन जिंदगी खतम हो जाती है। खराब डाइट और बिगड़ता लाइफस्टाइल हमारे दिल की सेहत को भी बिगाड़ रहा है। हार्ट हमारी पूरी बॉडी को ब्लड देता है। ब्‍लड की मदद से शरीर में ऑक्‍सीजन और पोषक तत्‍वों को भेजा जाता है। दिल ही कॉर्बन डाइऑक्‍साइड व अन्‍य अपश‍िष्‍ट पदार्थों को शरीर के बाहर न‍िकालने का काम करता है।

दिल की बीमारी में सबसे ज्यादा खतरनाक हार्ट अटैक होता है। इस बीमारी के कोई वॉर्निंग साइन नहीं दिखते। मरीज अच्छा-खासा नॉर्मल होता है और उसे एक मिनट में हार्ट अटैक आ जाता है। इस परेशानी के लिए खराब डाइट,बिगड़ता लाइफस्टाइल और तनाव पूरी तरह जिम्मेदार है।

हार्ट अटैक की परेशानी में अक्सर देखा जाता है कि ये परेशानी सुबह बाथरूम में होती है। बाथरूम में हार्ट अटैक (Heart attack) या कार्डियक अरेस्ट (Cardiac arrest) आने के बहुत से मामले सामने आ चुके हैं। अब सवाल ये उठता है कि अखिर सुबह के समय बाथरूम में हार्ट अटैक क्यों आता है और इस परेशानी से कैसे बचाव किया जा सकता है। आइए एक्सपर्ट से जानते हैं कि हार्ट अटैक की इस स्थिति से कैसे बचाव करें।

हार्टअटैक का मुख्य कारण क्या है: (What is the main cause of heart attack)हार्ट अटैक का मुख्य कारण है कोलेस्ट्रॉल का बढ़ना है। कोलेस्ट्रॉल एक तरह की चर्बी है जो अक्सर जानवरों में पाई जाती है। अगर आप मिल्क और नॉनवेज का अधिक सेवन कर रहें तो आपकी बॉडी में कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ सकता है। एम्स के पूर्व कंसल्टेंट और साओल हार्ट सेंटर के फाउंडर एंड डायरेक्टर डॉ विमल झांजेर (एमबीबीएस, एमडी) के मुताबिक Cholesterol का लेवल 200 से ज्यादा होने पर हार्ट अटैक का खतरा बढ़ने लगता है।

हाई ट्राइग्लिसराइड्स की वजह से भी हार्ट अटैक का खतरा बढ़ता है। हाई ट्राइग्लिसराइड्स एक तरह का तेल है जो दिल के दौरा का कारण बनता है। मूंगफली, ड्राईफ्रूट्स का अधिक सेवन से बॉडी में हाई ट्राइग्लिसराइड्स का स्तर बढ़ने लगता है जो ब्लोकैज को बढ़ाते हैं।
हाई ब्लड प्रेशर भी हार्ट अटैक का कारण बनता है।
ब्लड शुगर का बढ़ना हार्ट अटैक का कारण है।
स्मोकिंग, जर्दा, गुटखा या किसी भी तरह के तम्बाकू का सेवन दिल के रोगों का खतरा बढ़ाता है।

तनाव हार्ट की बीमारी का मुख्य कारण है। अक्सर देखा गया है कि लोगों को गुस्सें में सदमें में हार्ट अटैक आ जाता है। हार्ट अटैक से बचना है तो तनाव से दूर रहें।

बॉथरूम में हार्टअटैक क्यों आता है? (Why do heart attacks happen in the bathroom)

हेल्थलाइन की खबर के मुताबिक बॉथरूम में हार्टअटैक आने के पीछे सिम्पेथेटिक और पैरासिम्पेथेटिक औटोनोमिक नर्वस सिस्टम के बीच असंतुलन होना है। इस असंतुलन के दौरान ब्लड प्रेशर में कमी होने लगती है और ब्रेन में ब्लड सर्कुलेशन कम होने लगता है और कॉशियसनेस कम होने लगती है जिसकी वजह से हार्ट अटैक या फिर कॉर्डियक अरेस्ट हो सकता है।

हार्ट अटैक की इस परेशानी से बचने के लिए क्या करें: (how to avoid heart attack)

सर्दी मे अक्सर बॉथरूम में हार्ट अटैक के मामले ज्यादा सामने आते हैं इसलिए बॉथरूम में ज्यादा ठंडे वातावरण के संपर्क में आने से बचें।

सर्दी में ना ज्यादा गर्म पानी का इस्तेमाल करें ना ही ज्यादा ठंडे पानी का इस्तेमाल करें।
सिर पर पहले पानी नहीं डालें। सबसे पहले पैर या बॉडी को वॉश करें और फिर धीरे-धीरे सिर की तरफ जाएं।
अगर आप पहले से ही दिल के मरीज हैं तो आप नहाते समय दरवाजा बंद नहीं करें। आपका दिल पहले से ही कमजोर है इसलिए उसपर दबाव पड़ सकता है।


No comments