Breaking News

Himachal Cabinet: जानें-CM सुक्खू के 7 कैबिनेट मंत्रियों के बारे में कोई वकील-कोई प्रोफेसर

Know-carrier of 7 cabinet ministers of CM Sukhu

शिमला. हिमाचल प्रदेश में कैबिनेट का गठन हो गया है. शिमला में राजभवन में रविवार को 7 मंत्रियों ने शपथ ली. हालांकि, अभी विभागों का बंटवारा नहीं हुआ है. अहम बात है कि 7 मंत्रियों में चार पहली बार कैबिनेट में शामिल हुए हैं.

मंत्रीमंडल के शपथ ग्रहण के दौरान सबसे बसे चंद्र कुमार ने शपथ ली. वह कांगड़ा के ज्वाली विधानसभा क्षेत्र से आते हैं. चौधरी चन्द्र कुमार कांग्रेस के कद्दावर और वरिष्ठ नेता हैं और अबकी बार 9वीं बार उन्होंने चुनाव लड़ा था. वह छठी बार विधानसभा सदन में पहुंचे हैं. सदन में सबसे उम्रदराज और ज़्यादा पढ़े लिखे विधायक भी हैं. ओबीसी नेता के तौर पर जाने जाते हैं. एक बार लोकसभा सांसद भी रह चुके हैं. 78 साल के चन्द्र कुमार साल 1982 और 1985 में गुलेर विधानसभा से चुनाव जीते थे. 1993, 1998, 2003 में जीत की हैट्रिक लगाई थी. 2007 और 2012 में बेटे नीरज भारती के सीट छोड़ी थी. चन्द्र कुमार कॉलेज में प्राध्यापक भी रह चुके हैं और वीरभद्र सिंह सरकार में राज्य मंत्री और कैबिनेट मंत्री रहे थे. चंद्र कुमार ने पंजाब यूनिवर्सिटी और एचपीयू से एमएम, एमईएड और एलएलबी की डिग्री हासिल की है.

Dhani Ram Shandil:
सोलन सीट से जीते कर्नल धनी राम शांडिल भारतीय सेना से रिटायर हैं. उनका जन्म 20 अक्तूबर 1940 को हुआ था. वह एमए, एमफिल और पीएचडी हैं. साल 1962 से 96 तक सेना में रहे. पहली बार हिमाचल विकास कांग्रेस से चुनाव जीते और विधायक बने. साल 2012 में फिर विधानसभा पहुंचे. इसके बाद 2017 और 2022 में लगातार दूसरी बार जीत हासिल की और मंत्री बने. सोलन सीट से उन्होंने अपने दामाद और भाजपा नेता राजेश कश्यप को हराया था.

Harsh Vardhan Chauhan:
कैबिनेट मंत्री हर्षवर्धन चौहान सिरमौर के शिलाई से विधायक हैं. उनके पिता भी मंत्री रहे हैं. हर्षवर्धन चौहान का जन्म 14 सितंबर 1964 को हुआ था. वह बीए, एलएलबी हैं. शिमला के एडवर्ड्स स्कूल से पढ़ें हैं. पहली बार साल 1993 में चुनाव जीता था. इसके बाद 1998, 2003 और 2007 में विधानसभा पहुंचे. चौहान को दोबारा 2017 में जीत मिली और अब छठी बार विधायक जीतकर कैबिनेट मंत्री बनाए गए हैं.

Rohit Thakur: शिमला के कोटखाई जुब्बल से रोहित ठाकुर को मंत्री बनाया गया है. उनके दादा राम लाल ठाकुर हिमाचल के सीएम रहे हैं. रोहित ठाकुर का जन्म 14 अगस्त 1974 को हुआ था. रोहिता बीए ऑनर्स हैं और उनका एक बेटा औऱ दो बेटियां हैं.साल 2003 में वह पहली चुनाव जीते थे. फिर 2007 में उन्हें हार मिली. इसके बाद 2012 में जीते. लेकिन 2017 में हार गए. बाद में 2021 में उपचुनाव में जीत हासिल की. अब 2022 में चुनाव जीतकर मंत्रीमंडल में शामिल हुए.

Anirudh Thakur:अनिरूध ठाकुर शिमला के कुसुमपट्टी से विधायक हैं. उन्होंने पूर्व कैबिनेट मंत्री सुरेश भारद्वाज को हराया था. 27 जनवरी 1977 को जन्में अनिरूध ठाकुर पहली बार 2012 में चुनाव लड़े और जीते थे. इसके बाद 2017 औऱ 2022 में जीत हासिल करते हुए हैट्रिक लगाई है. वह शिमला जिला परिषद के दो बार चेयरमैन भी रहे हैं.

Jagat Singh Negi: जनजातीय कोटे से मंत्री बने हैं. किन्नौर विधानसभा से चुनाव जीतकर विधानसभा पहुंचे. पहली बार वर्ष 1986 में पंचायती राज चुनाव के तहत कल्पा ब्लॉक पंचायत समिति में बतौर चेयरमैन बने थे. विधायक जगत सिंह नेगी ने विधानसभा चुनाव में इस बार जीत की हैट्रिक लगाई है. 65 साल के नेगी ने पंजाब यूनिवर्सिटी,चंडीगढ़ से लॉ की पढ़ाई की है. जगत सिंह नेगी किन्नौर विधानसभा क्षेत्र से पहले विधायक हैं जो हिमाचल कैबिनेट में मंत्री बने हैं. इससे पहले वह वर्ष 2012-17 तक वीरभद्र सरकार में विधानसभा के उपाध्यक्ष रहे थे.

Vikramaditya Singh: विक्रमादित्य सिंह दूसरी बार विधायक चुन कर आए हैं. पिता से विरासत में सियासत मिली. पिता सूबे के छह बार के सीएम रहे हैं. 2017 में विक्रमादित्य सिंह ने पहली बार चुनाव लड़ा था. मां मंडी से सांसद और प्रदेशाध्यक्ष हैं. विक्रमादित्य सिंह को वीरभद्र गुट के कोटे से मंत्री बनाया गया है. विक्रमादित्य सिंह 33 साल हैं और पहली बार कैबिनेट मंत्री बने हैं.

No comments