Breaking News

ND vs SL: सूर्यकुमार की तूफ़ानी शतक के बाद गेंदबाजों ने उड़ाये परखच्चे, भारत ने श्रीलंका को 91 रनों से रौंदकर सीरीज पर किया कब्जा

भारत बनाम श्रीलंका (IND vs SL) टी20 सीरीज का समापन हो चुका है। दो मुकाबलों में जीत हासिल कर भारतीय टीम ने इस सीरीज पर कब्जा कर लिया है। सीरीज का आखिरी और निर्णायक मुकाबला राजकोट के सौराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन स्टेडियम में खेला गया।

जहां मेजबान टीम ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने के फैसला किया। पहले बल्लेबाजी करते हुए टीम इंडिया ने सूर्यकुमार यादव की शतकीय पारी के बूते 230 रन का पहाड़नुमा लक्ष्य खड़ा किया। जिसको मेहमान टीम पूरा करने में नाकामयाब रही और 137 रन ही बना सकी। नतीजन हार्दिक पांड्या की टीम की 91 रन से जीत हुई।

टॉस जीतकर हार्दिक पांड्या ने पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। पहले बल्लेबाजी करते हुए टीम की शुरुआत कुछ खास नहीं रही। पहले ओवर में ईशान किशन के आउट होने के बाद टीम ने 5.5 ओवर में युवा बल्लेबाज राहुल त्रिपाठी को दूसरे विकेट के रूप में खोया। राहुल (16 गेंदों पर 35 रन) और ईशान (1) के पवेलियन लौटने के बाद भारतीय टीम लड़खड़ाती हुई नजर आई। ऐसे में सूर्यकुमार यादव ने अपनी तूफ़ानी पारी से टीम की मैच में वापसी करवाई।

उन्होंने 51 गेंदों पर 121 रनों की शतकीय पारी खेली। उनके अलावा अक्षर पटेल ने 9 गेंदों पर 21 रन की ताबड़तोड़ नाबाद पारी खेल टीम के पहाड़नुमा स्कोर में अहम भूमिका निभाई। वहीं, शुभमन गिल 46 बनाने में कामयाब हुए, जबकि हार्दिक पांड्या और दीपक हुड्डा जैसे धाकड़ बल्लेबाज 4-4 रन ही बना सके। हालांकि, सूर्या की शतकीय और राहुल त्रिपाठी और अक्षर की ताबड़तोड़ पारी के बदौलत भारतीय टीम 5 विकेट के नुकसान पर 230 रन का टारगेट सेट कर पाई।

दिए गए टारगेट को हासिल करने के लिए मैदान पर उरती श्रीलंकाई टीम बल्लेबाजी में बहुत ही बुरी तरह से फ्लॉप हुई। टीम के पांच बल्लेबाज ही ऐसे रहे जो दहाई अंक का स्कोर हासिल कर पाने में सफल हुए। उनके अलावा सभी बल्लेबाज एक-एक अंक का स्कोर बनाकर ही पवेलियन लौट गए। पारी की शुरुआत करते हुए पाथुम निसंका और कुसल मेंडिस ने क्रमशः 15 और 23 रन बनाए, जबकि धनंजया सिल्वा 22 रन और चरिथ असलंका 19 रन की पारी ही खेल सके।

कप्तान दसुन शनाका ने भी 23 रन की कप्तानी पारी खेली। इनके अलावा अविश्का फर्नांडो और दिलशन मधुसंका ने एक-एक रन अपने खाते में जोड़े। वानींदु हसरंगा और कसून रजिथा ने 9-9 रन और महीश तीक्षणा ने 2 रन का योगदान दिया। चमिका करुणारत्ने बिना खाता खोले ही पवेलियन लौट गए। इस प्रदर्शन के साथ टीम निर्धरित लक्ष्य को हासिल करने में नाकामयाब हुई और 16.4 ओवरों में 137 रन बनाकर ताश के पत्तों की तरह बिखर गई।

No comments